“प्रकाशक में अनुक्रमिक टिकट संख्या -शब्द 2013 में अनुक्रमिक पृष्ठ क्रमांकन”

सबसे ज्यादा नौकरियां देने के मामले में आईटी सेक्टर अव्वल है. एसके बाद इंजीनियरिंग, टेक्सटाइल, निर्माण, बुनियादी ढांचा, एयरलाइन और शिक्षा शामिल है. नई नौकरी पाने वालों में 50.07 फीसदी लोगों को आईटी या आईटी से जुड़े दूसरे कामों में नौकरी मिली है. इसके अलावा आयात निर्यात का धंधा एक बार फिर पटरी पर लौट रहा है. इसके कारण भी लोगों को खूब सारी नई नौकरियां मिली हैं.

Google, Yahoo! ® और Bing ® पर सूचीबद्ध होने में आपकी सहायता करने के लिए हमारे डीलक्स और अल्टिमेट प्लान्स में हमारा अंतर्निहित SEO विज़ार्ड शामिल है। अधिक उन्नत उपयोगकर्ता Yoast जैसे SEO प्लगइन जोड़ सकते हैं।

यह अच्‍छा उपाय है कि एक ऐसी TOC शैली निर्धारित की जाए जिसमें आपकी विषय सूची के लिए फ़ॉर्मेटिंग एवं अन्‍य विकल्‍प शामिल हों, विशेषकर जब आप अपने दस्तावेज़ में एक से अधिक TOC शामिल करना चाहते हों. ऐसा करने के लिए, Save Style क्लिक करें. आप Layout > Table Of Contents Styles चुनकर भी TOC शैलियाँ बना सकते हैं.

एक महिला बैंक की बात सही लगी कि कमीशन का पैसा पूरे ब्रांच या बैंक के कर्मचारियों में बराबर से क्यों नहीं बंटता है? क्यों ऊपर के अधिकारी को ज़्यादा मिलता है, नीचे वाले को कम मिलता है? यही नहीं इन उत्पादों को बेचने के लिए रीजनल आफिस से दबाव बनाया जाता है। डेली रिपोर्ट मांगी जाती है। इंकार करने पर डांट पड़ती है और तबादले का ख़ौफ़ दिखाया जाता है।

पुस्‍तक सूची में सभी दस्तावेज़ों के लिए एकल विषय सूची बनाने और पुस्‍तक के पेजों को फिर से क्रमांकित के लिए Include Book Documents का चयन करें. यदि आप केवल वर्तमान दस्तावेज़ के लिए विषय सूची जनरेट करना चाहते हैं, तो इस विकल्‍प का चयन रद्द करें. (यदि वर्तमान दस्तावेज़ पुस्‍तक फ़ाइल का हिस्‍सा नहीं है, तो यह विकल्प धुंधला हो जाता है.)

Tagged as: Anti Government Protest, Anti Government Protest in China, Chinese Army, Chinese Government, Communist Government of China, Human Right Violation, human rights, Massacres in the World, News, Tiananmen Massacre, Tiananmen Square, Tiananmen Square Massacre, UK National Archives, कम्युनिस्ट सरकार, ख़बर, चीन, चीन सरकार, चीनी सेना, थियानमेन चौक, थियानमेन चौक नरसंहार, थियानमेन नरसंहार, द वायर हिंदी, दमन, नेशनल आर्काइव ब्रिटेन, न्यूज़, बीजिंग, मानवाधिकार, मानवाधिकार उल्लंघन, समाचार, सरकार विरोधी प्रदर्शन, हिंदी समाचार

भारतीय रेलवे की वेबसाइट इंडियन रेल डॉट गॉव डॉट इन पर जाकर आप पीएनआर स्टेटस की जांच कर सकते हैं। यह आधिकारिक वेबसाइट है इसलिए आप यहां पर मिलने वाली जानकारियों पर पूरी तरह से भरोसा करें। अगर आपने आईआरसीटीसी की वेबसाइट से टिकट बुक कराई है तो आप यहां से भी पीएनआर स्थिति जान पाएंगे। आपको लॉगइन करना है, फिर बुक्ड टिकट हिस्ट्री में जाना है। यहां पर उस टिकट को चुन लें जो वेटिंग है। उसके बाद आपको गेट पीएनआर स्टेटस पर क्लिक करना होगा। अब एक पॉप अप खुलेगा जिसमें पीएनआर की स्थिति मौजूद होगी।

“एक भारत एक प्रवेश परीक्षा” के सिद्धांत पर 2016 से नीट परीक्षा का आयोजन किया गया, जिसमें पूरे भारत के छात्रों के लिए एमबीबीएस व बीडीएस में प्रवेश के लिए परीक्षा का आयोजन हुआ, जिसे राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा यानि National Eligibility cum Entrance Test (नीट) कहा गया !

हमारी कंपनी सुरक्षा जवानों की एक पेशेवर निर्माता है, वानजाउ शहर में स्थित, झेजियांग प्रांत है। स्थापना के बाद से, हमारी कंपनी के विकास और उत्पादन के लिए http://mywebspider.com किया गया की सुरक्षा जवानों हैं। अब तक, हम सुरक्षा जवानों के विभिन्न श्रृंखला, जैसे उच्च सुरक्षा जवानों, केबल जवानों, प्लास्टिक जवानों, धातु जवानों, ताला जवानों, मीटर जवानों, बाधा जवानों, आदि पेशेवर इंजीनियरों, उत्पादन टीम, बिक्री टीम और गंभीर गुणवत्ता नियंत्रण प्रणाली की गारंटी करने के लिएग्राहकों को उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के साथ सबसे सीमित बजट उनके बाजार को जीतने के लिए और अधिक लाभ प्राप्त है।

1- रेलवे स्टेशन पर रिजर्वेशन के लिए लंबी लाइन और फिर एजेंट्स के साथ मारामारी से अगर आप थक चुके हों तो ऑनलाइन बुक करना ही बेहतरीन विकल्प है. वैसे भी डिजिटल इकॉनमी की ओर बढ़ते कदम के बीच सरकार ऑनलाइन ट्रांजैक्शन्स को बढ़ावा भी दे रही है. इसलिए बेहतर होगा कि आप वेबसाइट या ऐप के जरिए टिकट बुक करें.

बैंक सेक्टर में काम करने वाली महिलाओं पर आज जो अत्याचार हो रहा है, उसके लिए अत्याचार बेहद मुलायम शब्द है. आप सोच रहे होंगे मैं अत्याचार या ज़ुल्म अतिरेक में या भावावेश में बोल रहा हूं, मगर आप ख़ुद भी अपने परिचित से पूछ सकते हैं जो सरकारी बैंक में ब्रांच के स्तर पर काम करते हैं. मैंने कई ऑडियो रिकॉर्डिंग सुने हैं, जिसमें रीजनल मैनेजर महिला और पुरुष ब्रांच मैनेजरों को गंदी-गंदी गाली दे रहे हैं और उनपर चीखते हैं. बात-बात सस्पेंड करने की धमकी देते हैं. इस डर से बहुत सी महिलाएं प्रमोशन नहीं ले रही हैं. उन्हें लगता है कि क्लर्क ही ठीक है मगर वहां भी कम शोषण नहीं है. गोपनीयता का मसला न होता तो कई बार ख्याल आया कि इन्हें पब्लिक कर देता हूं. मगर ये एक ज़िंदगी से ज़ुड़ा मसला होता है इसलिए सुनकर डिलिट करना पड़ जाता है. हम महिला बैंकरों के किस्से को अपनी महिला सहयोगियों की आवाज़ में आपको सुनाना चाहते हैं. 

रैडक्रॉस मेले के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त शिमला  रोहन चंद ठाकुर ने लोगों से रैडक्रॉस की गतिविधियों से अधिक से अधिक संख्या में जुड़ने का आह्वान करते हुए कहा कि सभी लोगों को रैडक्रॉस की आर्थिक रूप से मदद करनी चाहिए। रैडक्रॉस को प्रदान की गई आर्थिक सहायता निर्धन, गरीब व मरीजों की मदद के लिए उपयोग की जाती है।

एक विषय सूची जनरेट करने से पहले, निर्धारित करें कि किन-किन पैराग्राफ़ों को शामिल करना चाहिए (जैसे अध्‍याय और अनुभाग का शीर्षक) और उसके बाद हर एक के लिए पैराग्राफ़ शैली निर्धारित करें. सुनिश्चित करें कि ये शैलियाँ दस्तावेज़ या दस्तावेज़ की पुस्‍तक के सभी उपयुक्त पैराग्राफ़ों में लागू हैं.

केरल का मोहम्मद बशीर अब्दुल खाद एमिरेटस की उड़ान ईके 521 पर सवार 300 लोगों में था। यह विमान पिछले बुधवार को दुबई हवाई अड्डे पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था और उसमें आग लग गयी थी लेकिन सभी यात्री बच गये थे।

यदि आपके दस्तावेज़ में एकाधिक विषय सूचियाँ हैं, जैसे चित्रों की सूची और विज्ञापनदाताओं की सूची, तो एक भिन्न सूची युक्त टेक्स्ट फ़्रेम का चयन करें और उसके बाद Layout > Update Table Of Contents का चयन करें.

नई दिल्ली: केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने पुलिस प्रतिष्ठानों और राष्ट्रीय राजधानी में काम कर रहे उनके वरिष्ठ अधिकारियों को अपने परिसर पर नजर रखने और सतर्कता बरतने की सलाह दी है और कहा कि वे खुद की सुरक्षा पर ध्यान दें। हाल में खुफिया सूचना से संकेत मिलता है कि उनके खिलाफ आतंकवादी हमले हो सकते हैं।

बैंक शाखाओं में स्टाफ की भयंकर कमी है। नई भर्ती नहीं हो रही है। बेरोज़गार सड़क पर हैं। जहां 6 लोग होने चाहिए वहां 3 लोग काम कर रहे हैं। ज़ाहिर है दबाव में कर्मचारियों से ग़लती होती है। एक मामले में दो कर्मचारियों को अपनी जेब से 9 लाख रुपये भरने पड़ गए। सोचिए उनकी क्या मानसिक हालत हुई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *